कितनी सारी मुस्कान : मनोज दास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Kitani Sari Muskan : by Manoj Das Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameकितनी सारी मुस्कान / Kitani Sari Muskan
Author
Category, , ,
Language
Pages 46
Quality Good
Size 14.4 MB
Download Status Available

कितनी सारी मुस्कान का संछिप्त विवरण : अब हमारी अपनी लोकसभा है, एक राष्ट्रपति, एक प्रधानमंत्री और मंत्रियों का एक समूह है, जो देश चलाते हैं। यदि बादशाह होते भी तो घोड़े की पीठ पर लगे सोने के हौदे में बैठकर अकसर यात्रा नहीं करते, न ही लतबर उनके साथ किसी दूसरे घोड़े पर चाँदी के हौदे में बैठकर दौड़ लगाता | बापी की समझ उससे कह रही थी कि धातु की बनी सीट भले हीं कीमती हो…….

Kitani Sari Muskan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ab Hamari Apani Loksabha hai, Ek Rashtrapati, ek Pradhanamantri aur mantriyon ka ek samooh hai, jo desh chalate hain. yadi badashah hote bhee to ghode kee peeth par lage sone ke haude mein baithakar akasar yatra nahin karate, na hee latabar unake sath kisi doosare ghode par chandi ke haude mein baithakar daud lagata. Bapi kee samajh usase kah rahee thee ki dhatu kee banee seet bhale heen keemati ho……………
Short Description of Kitani Sari Muskan PDF Book : We now have our own Lok Sabha, a President, a Prime Minister and a group of ministers who run the country. Even if the king was a king, he would not travel often by sitting in a gold hose on a horse’s back, nor did Latabar race with him on a horse in a silver crate. Bapi’s understanding was telling him that even a seat made of metal may be valuable ……………
“कल तो चला गया। आने वाले कल अभी आया नहीं है। हमारे पास केवल आज है। आईये शुरुआत करें।” ‐ मदर टेरेसा
“Yesterday is gone. Tomorrow has not yet come. We have only today. Let us begin.” ‐ Mother Teresa

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment