कुहासे में उगता सूरज : आचार्य तुलसी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Kuhase Mein Ugata Sooraj : by Acharya Tulsi Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameकुहासे में उगता सूरज / Kuhase Mein Ugata Suraj
Author
Category, ,
Language
Pages 274
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मनुष्य जो कुछ बनता है, अपने विचारों से बनता है, इच्छाशक्ति से बनता है, संकल्पशक्ति से बनता है और कर्मशक्ति से बनता है। बाह्य परिस्थितियां उस पर उतना ही प्रभाव छोड़ती है, जितना वह स्वीकार करता है। उसके मस्तिष्क में जैसा चित्र रूपायित होता है, वैसी ही अभिव्यक्ति हो जाती है। वह जिस दरवाजे को खटखटाता है, वही खुलता है …….

Pustak Ka Vivaran : Manushy jo kuchh banata hai, apane vicharon se banata hai, ichchhashakti se banata hai, sankalpashakti se banata hai aur karmashakti se banata hai. bahy paristhitiyan us par utana hi prabhav chhodati hai, jitana vah svikar karata hai. Usake mastishk mein jaisa chitr Roopayit hota hai, vaisi hi abhivyakti ho jati hai. Vah jis daravaje ko khatakhatata hai, vahi khulata hai…………

Description about eBook : Everything that a man makes is made of his thoughts, he is made of willpower, it is made of willpower, and it is made of action. External conditions leave as much influence on him as he accepts. The expression in his brain becomes like that. The door he knocks opens………………

“सौंदर्य शक्ति है; और मुस्कान उसकी तलवार है।” ‐ जॉन रे
“Beauty is power; a smile is it’s sword.” ‐ John Ray

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment