कुलदेवियां : रतन सिंह शेखावत द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Kuldeviya : by Ratan Singh Sekhavat Hindi PDF Book – History (Itihas)

कुलदेवियां : रतन सिंह शेखावत द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Kuldeviya : by Ratan Singh Sekhavat Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कुलदेवियां / Kuldeviya
Author
Category, , ,
Language
Pages 51
Quality Good
Size 1.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : लोक देवियाँ हमारी संस्कृति का प्रमुख अंग है, वनवासी से लेकर नगरीय समाज तक इनका प्रभुत्य एवं प्रभामंडल स्थापित है | भारत का जनमानस देवताओं की पत्नियों को देवीय शक्ति के प्रतिक के रूप में मान्यता देता है तथा इनकी स्वतंत्र सत्ता भी स्थापित है शक्ति के रूप में उनकी वंदना एवं आराधना की जाती है……….

Pustak Ka Vivaran : Lok deviyan hamari sanskrti ka pramukh ang hai, vanvasi se lekar nagariy samaj tak inka prabhuty evan prabhamandal sthapit hai. Bharat ka janmanas devtaon ki patniyon ko daiviy shakti ke pratik ke rup mein manyata deta hai tatha inki svatantr satta bhi sthapit hai shakti ke rup mein unki vandna evan aaradhna ki jati hai…………

Description about eBook : Public Goddesses are the major part of our culture, from the forests to the urban society, their power and halo are established. The people of India recognize the wives of Gods as symbols of divine power and their independent power is also established, they are worshiped and worshiped as power……………

“मेरे विचार से जो व्यक्ति जिंदा रहने अर्थात पैसे के लिए किसी कार्य को करता है, वह स्वयं को गुलाम बना लेता है।” ‐ जोसेफ कैम्पबैल
“I think the person who takes a job in order to live that is to say, for the money has turned himself into a slave.” ‐ Joseph Campbell

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment