कुण्डलिनी साधना से प्रज्ञा और प्रखरता का जागरण : पं० श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – योग | Kundalini Sadhana Se Pragya Aur Prakharata Ka Jagran : by Pt. Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book – Yoga

कुण्डलिनी साधना से प्रज्ञा और प्रखरता का जागरण : पं० श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - योग | Kundalini Sadhana Se Pragya Aur Prakharata Ka Jagran : by Pt. Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book - Yoga
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कुण्डलिनी साधना से प्रज्ञा और प्रखरता का जागरण / Kundalini Sadhana Se Pragya Aur Prakharata Ka Jagrn
Author
Category, ,
Language
Pages 8
Quality Good
Size 59 KB
Download Status Available

कुण्डलिनी साधना से प्रज्ञा और प्रखरता का जागरण का संछिप्त विवरण : कुण्डलिनी विज्ञान में मूलाधार को योनि और सहस्त्रसार को लिंग कहा गया है। यह सूक्ष्म तत्वों की गहन चर्चा है। इस वर्णन में काम क्रीड़ा एवं श्रंगारिकता का काव्यमय वर्णन तो किया गया है, पर क्रिया प्रसंग में वैसा कुछ नहीं है। तंत्र ग्रंथों में उलट भाषियों की तरह मद्य, माँस, मीन, मुद्रा और पांचवां मैथुन भी साधना प्रयोजनों में……..

Kundalini Sadhana Se Pragya Aur Prakharata Ka Jagrn PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kundalini Vigyan mein Mooladhar ko yoni aur Sahastrasar ko ling kaha gaya hai. Yah Sookshm Tatvon ki gahan charcha hai. Is Varnan mein kam kreeda evan shrangarikata ka kavyamay varnan to kiya gaya hai, par kriya prasang mein vaisa kuchh nahin hai. Tantra Granthon mein ulat bhashiyon kee tarah mady, mans, meen, mudra aur Panchavan Maithun bhi Aadhana Prayojanon mein………..
Short Description of Kundalini Sadhana Se Pragya Aur Prakharata Ka Jagrn PDF Book : In Kundalini Vigyan, Muladhara is called vagina and Sahastrasar as penis. This is an in-depth discussion of the subtle elements. In this description, there is a poetic description of sex and beauty, but there is nothing like that in the action context. Unlike tantras in the Tantra texts, alcohol, meat, Pisces, mudra and fifth sex are also used for spiritual purposes ………
“निकम्मे लोग सिर्फ खाने पीने के लिए जीते हैं, लेकिन सार्थक जीवन वाले जीवित रहने के लिए ही खाते और पीते हैं।” – सुकरात
“Worthless people live only to eat and drink; people of worth eat and drink only to live.” – Socrates

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment