कुंकुम के पगलिये : आचार्य श्री नानेश द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Kunkum Ke Pagaliye : by Acharya Shri Nenesh Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameकुंकुम के पगलिये / Kunkum Ke Pagaliye
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 196
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : तुम मेरा परिचय क्या पूछ रही हो मैं भी तो मनुष्य हूँ लेकिन जंगल में रहने के कारण क्रूर और खूंखार हो गया हूँ और इतना खूंखार कि जंगली जानवरों को भी पकड़ कर चबा जाता हूँ। इसी कारण इस बीस कोस के जंगल से सभी प्राणी भाग गये है। मेरी राक्षसी वृत्ति मेरे लिए कठिन समस्या हो गयी है………..

Pustak Ka Vivaran : Ma Mera Parichay kya poochh rahi ho main bhi to Manushy hoon lekin jangal mein rahane ke karan kroor aur khoonkhar ho gaya hoon aur itana khoonkhar ki jangali Janvaron ko bhee pakad kar chaba jata hoon. Isi karan is bees kos ke jangal se sabhee prani bhag gaye hai. Meri Rakshasi vrtti mere liye kathin samasya ho gayi hai……….

Description about eBook : What am I asking for my introduction? I too am a human but due to living in the forest, I have become cruel and dangerous and so dangerous that even wild animals can be caught and chewed. This is the reason that all beings have escaped from this twenty Kos forest. My demonic instinct has become a difficult problem for me……….

“मैं इस आसान धर्म में विश्वास रखता हूं। मन्दिरों की कोई आवश्यकता नहीं; जटिल दर्शनशास्त्र की कोई आवश्यकता नहीं। हमारा मस्तिष्क, हमारा हृदय ही हमारा मन्दिर है; और दयालुता जीवन-दर्शन है।” – दलाई लामा
“This is my simple religion. There is no need for temples; no need for complicated philosophy. Our own brain, our own heart is our temple; the philosophy is kindness.” – Dalai Lama

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment