क्या बालू की भीत पर खड़ा है हिन्दू धर्म : डॉ. सुरेंद्र कुमार शर्मा ‘अज्ञात’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Kya Baloo Ki Bheet Par Khada Hai Hindu Dharm : by Dr. Surendra Kumar Sharma ‘Agyat’ Hindi PDF Book – Social (Samajik)

क्या बालू की भीत पर खड़ा है हिन्दू धर्म : डॉ. सुरेंद्र कुमार शर्मा 'अज्ञात' द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Kya Baloo Ki Bheet Par Khada Hai Hindu Dharm : by Dr. Surendra Kumar Sharma 'Agyat' Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name क्या बालू की भीत पर खड़ा है हिन्दू धर्म / Kya Baloo Ki Bheet Par Khada Hai Hindu Dharm
Author
Category,
Language
Pages 864
Quality Good
Size 35 MB
Download Status Available

क्या बालू की भीत पर खड़ा है हिन्दू धर्म का संछिप्त विवरण : यह ठीक है कि किसी भी समाज के सब सदस्य एक समान नहीं होते. परंतु समाज की नियति एक सी ही होती है. आतंकी घटनाएं आए दिन इस तथ्य को रेखांकित करती हैं. व्यक्तिगत तौर पर संभव है कुछ अपवाद रहे हों, परंतु इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि इस समाज की हेसियत इतिहास में वैसी ही रही है जैसी व्यायामशाला में टंगे रेत के उस बोरे की होती है, जिस पर कोई भी नौसिखिया……

Kya Baloo Ki Bheet Par Khada Hai Hindu Dharm PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Yah Theek hai ki Kisi bhi Samaj ke sab sadasy ek saman nahin hote. Parantu Samaj ki Niyati ek si hi hoti hai. Aatanki Ghatanayen aaye din is Tathy ko Rekhankit karati hain. Vyaktigat taur par sambhav hai kuchh Apvad rahe hon, Parantu is bat se koi Inkar nahin kar sakata ki is samaj ki haisiyat itihas mein vaisi hi rahi hai jaisi Vyayamashala mein tange ret ke us bore ki hoti hai, jis par koi bhi Nausikhiya………
Short Description of Kya Baloo Ki Bheet Par Khada Hai Hindu Dharm PDF Book : It is true that not all members of any society are equal. But the fate of the society is the same. Terrorist incidents every day underscore this fact. Individually there may have been some exceptions, but no one can deny that the status of this society has been the same in history as that sack of sand hanging in a gymnasium, on which any novice………
“व्यवहारकुशलता लोगों को यह विश्वास दिलाने की कला है कि वे आप से अधिक जानते हैं।” ‐ रेमंड मॉर्टीमर
“Tact is the art of convincing people that they know more than you do.” ‐ Raymond Mortimer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment