क्या मनुष्य एक यंत्र है : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Kya Manushy Ek Yantra Hai : Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

क्या मनुष्य एक यंत्र है : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Kya Manushy Ek Yantra Hai : Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name क्या मनुष्य एक यंत्र है / Kya Manushy Ek Yantra Hai
Author
Category,
Language
Pages 62
Size 810 KB
Download Status Available

क्या मनुष्य एक यंत्र है का संछिप्त विवरण : थोड़े से सवाल हैं। एक मित्र ने पूछा है कि सुबह के ध्यान में शरीर बिल्कुल ही गायब हो जाता है। और जो बचता है वह बहुत विशाल, ओर-छोर से परे लगता है। पर ध्यान के बाद शेष दिन में शरीर का बोध फिर शुरू हो जाता है, फिर क्षुद्र शरीर का अनुभव होने लगता है। तो क्या यह सब अहंकार की ही लीला है…..

Kya Manushy Ek Yantra Hai PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Koi Rasta na tha, Unhen vishvas to na Aaya ki yah bat ho sakegi. Lekin unhonne jhoothi khoonti Gadi jo khoonti nahin thee, uske oopar unhonne choten keen. oont ne choten sunin aur samajha hoga ki khoonti Gadi ja rahi hai. Aur jo Rassi nahin thi, usase unhonne oont ke gale ko Bandha aur uske gale par hath phera. Unt ne Samajha hoga ki……….
Short Description of Kya Manushy Ek Yantra Hai PDF Book : There was no way, they did not believe that this would happen. But they inflicted injuries on the false peg of the car which was not a peg. The camel heard the injuries and must have understood that the peg cart is going. And with the rope which was not there, he tied the camel’s neck and put his hand on its neck. The camel must have understood that………
“ऐसा नहीं है कि मैं कोई अति प्रतिभाशाली व्यक्ति हूं; लेकिन मैं निश्चित रूप से अधिक जिज्ञासु हूं और किसी समस्या को सुलझाने में अधिक देर तक लगा रहता हूं।” आइंस्टीन
“It is not that I am genius; I am definitely more curious and stay with the problem longer.” Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment