लज्जा – तस्लीमा नसरीन मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Lajja by Taslima Nasrin Free Hindi Book |

Book Nameलज्जा / Lajja
Author
Category,
Language
Pages 177
Quality Good
Size 21 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सुरंजन सोया हुआ है | माया बार-बार उससे कह रही है, “मैया उठो, कुछ तो करो देर होने पर कोई दुर्घटना घट सकती है |’ सुरंजन जानता है, कुछ करने का मतलब है कहीं जाकर छिप जाना। जिस प्रकार चूहा डर कर बिल में घुस जाता है फिर जब उसका डर खत्म होता है तो चारों तरफ देखकर बिल से निकल आता है, उसी तरह………

Pustak Ka Vivaran : Suranjan soya huya hai. Maya bar-bar usase kah rahi hai, “Maiya utho, kuchh to karo der hone par koi durghatana ghat sakati hai. Suranjan janata hai, kuchh karane ka matlab hai kahin jakar chhip jana. Jis prakar chooha dar kar bil mein ghus jata hai phir jab uska dar khatm hota hai to charon taraph dekhakar bil se nikal aata hai, usi tarah………

Description about eBook : Suranjan is sleeping. Maya is repeatedly telling her, “Maya, get up, do something late, an accident may happen.” Suranjan knows that doing something means hiding somewhere, just like a rat enters the burrow in fear, then when its fear is over, it comes out of the burrow after looking around, in the same way………

“एक बार काम शुरू कर लें तो असफलता का डर नहीं रखें और न ही काम को छोड़ें। निष्ठा से काम करने वाले ही सबसे सुखी हैं।” चाणक्य
“Once you start a working on something, don’t be afraid of failure and don’t abandon it. People who work sincerely are the happiest.” Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment