लेखक और संवेदना : शैलेश मटियानी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Lekhak Aur Sanvedana : by Shailesh Matiyani Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameलेखक और संवेदना / Shailesh Matiyani
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 261
Quality Good
Size 84.4 MB
Download Status Available

लेखक और संवेदना पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण :  कुम्हार के घड़ा बनाने और लेखक के लिखने में संवेदना की भागीदारी का अनुपात एक
नहीं होगा, यह कहना में संवेदना का निषेध या कि लेखक की तुलना में उसे निकृष्ट जताने की कोशिश, करना
नमाना जाए। यहाँ उद्देश्य सिर्फ लेखक के कर्म प्रकृति और उसके संवेदन-ब्रत के भिन्न होने की ओर इंगित
करना है। संवेदना का ब्रत के भिन्न होने की ओर.

Shailesh Matiyani  PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : kumhar ke ghada banane aur lekhak ke likhane mein sanvedana ki bhageedari ka anupat ek nahin hoga, Yah kahana mein sanvedana ka nishedh ya ki lekhak kee tulana mein use nikrsht jatane kee koshish, karana na mana jaye. Yahan uddeshy sirf lekhak ke karm prakrti aur usake sanvedan-vrat ke bhinn hone ki or ingit karana hai. Sanvedana ka vrat ke bhinn hone ki or………..

Short Description of Shailesh Matiyani  Hindi PDF Book : The ratio of the participation of the sensation in the potter’s pot and the writing of the writer will not be the same, it is not to say that the prohibition of condolences or trying to show him inferior than the author is not considered. The purpose here is only to point out the different nature of the author’s karma nature and his sensation. Towards differentiation of the fast of sensation….

 

“आप इस जीवन में सबसे बड़ी गलती यह कर सकते हैं कि आप निरन्तर इस बात को लेकर डरते रहें कि आप कोई गलती कर देंगे।” एल्बर्ट हुब्बार्ड
“The greatest mistake you can make in this life is to continually fear you will make one.” Elbert Hubbard

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment