महावीर और बुद्ध की समसामयिकता : श्री नगराज द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Mahaveer Aur Buddha Ki Samsamayikta : by Shri Nagraj Hindi PDF Book

Book Nameमहावीर और बुद्ध की समसामयिकता / Mahaveer Aur Buddha Ki Samsamayikta
Author,
Category, , , , ,
Pages 146
Quality Good
Size 4.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : बुद और महाबीर का काल-निर्णय भारतीय इतिहास में कितने महत्त्व का स्थान रखता है, यह किसी भी इतिहासबिद्‌ से छिपा नहीं है । कुछ इतिहासकारों ने तो इसे भी ‘सिकन्दर के आक्रमण की तरह भारतीय इतिहास के उदबेलित सागर में लंगर के समान माना है । यह वस्तुतः सही भी है । प्रागु-मौर्यकालीन भारतीय राजाओं को काल-गणना को पूर्ण रूप से समझने के लिए उक्त तिथियाँ अत्यन्त ही महत्वपूर्ण हो जाती हैं……….

Pustak Ka Vivaran : Buddh aur Mahaveer ka kal-nirnay bharatiy itihas mein kitane mahattv ka sthan rakhata hai, yah kisi bhi itihasavid se chhipa nahin hai. Kuchh itihasakaron ne to ise bhi ‘sikandar ke akraman ki tarah bharatiy itihas ke udvelit sagar mein langar ke saman mana hai. Yah vastutah sahi bhi hai. Pragu-mauryakalin bharatiy rajaon ko kal-ganana ko poorn roop se samajhane ke lie ukt tithiyan atyant hi mahatvapoorn ho jati hain…………

Description about eBook : The significance of Buddha and Mahavira’s period-time position in Indian history is not hidden from any historian. Some historians have even considered it as an anchor in the booming sea of Indian history, like ‘Sikander’s invasion’. It is also true right too. For the Indian kings of Pura-Maurya, to fully understand the periodic calculations, the said dates become very important…………..

“आइये उन व्यक्तियों के प्रति आभार व्यक्त करें जो हमें प्रसन्न बनाते हैं।” ‐ मार्सल प्रोसाउट
“Let us be grateful to people who makes us happy.” ‐ Marcel Proust

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment