महऋषि सुकरात : श्याम सुंदर दास हिंदी पुस्तक | Mahrishi Sukrat : Shyaam Sunder Das Hindi Pustak pdf

Book Nameमहऋषि सुकरात / Mahrishi Sukrat
Author
Category, ,
Language
Pages 336
Quality Good
Size 9.3 MB
Download Status Available

महऋषि सुकरात का संछिप्त विवरण : सत्य का बल्न बढ़ा प्रवत्त है। इसका स्वाद जिसने चखा है वह इसके सामने संसार की परवाह नहीं करता। निंदा स्तुति, मान अपमान, हानि ल्ञाभ, यहाँ तक कि सृत्यु को भी वह तुच्छ समसता है। लोकतिंदा उसे डरा नहीं सकती, दरिद्वता उसे उदास नहीं कर सकती, राजपुरुषों की लाल…….

Mahrishi Sukrat PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Saty ka baln badha pravatt hai. Iska svad jisane chakha hai vah isake samane sansar ki parvah nahin karta. Ninda stuti, man apman, hani lnabh, yahan tak ki srtyu ko bhi vah tuchchh samasata hai. Lokatinda use dara nahin sakti, daridvata use udas nahin kar sakati, Rajpurushon ki lal…….
Short Description of Mahrishi Sukrat PDF Book : The light of truth has increased. One who has tasted it does not care about the world in front of it. He considers condemnation, praise, humiliation, loss, gain, even creation as insignificant. Loktinda can’t scare him, Poverty can’t make him sad, Red of royal men…….
“अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने के लिए समय न निकालने वाला व्यक्ति ऐसे मिस्त्री के समान होता है तो अपने औजारों की ही देखभाल में व्यस्त रहता है।” ‐ स्पेन की कहावत
“A man too busy to take care of his health is like a mechanic too busy to take care of his tools.” ‐ Spanish Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment