मजाज और उनकी शायरी : प्रकाश पंडित द्वारा मुफ्त हिंदी पुस्तक | Majaaj aur Unki Shayri : by Prakash Pandit Free Hindi Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मजाज और उनकी शायरी / Majaj aur Unki Shayari
Author
Category, ,
Language
Pages 102
Quality Good
Size 2.3 MB
Download Status Available

मजाज और उनकी शायरी पुस्तक का कुछ अंश : खूब पहचान लो ‘असरार’ हूँ मैं | जिनसे-उल्फत का तलबगार हूँ मैं || ख्वाबे-इशरत में है अरबाबे-खिरद | और इक शायरे-बेदार हूँ मैं || ऐब जो हाफिज-ओ-खय्याम में था | हाँ कुछ उसका भी गुनहगार हूँ मैं || हूरों-गिलमाँ का यहाँ ज़िक्र नहीं | नोआ-ए-इंसान का परस्तार हूँ मैं……….

Majaj aur Unki Shayari PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Khoob pahchan lo ‘Asarar’ hoon main | jinase-ulphat ka talabgar hoon main || khvabe-isharat mein hai arababe-khirad | aur ik shayare-bedar hoon main || aib jo haphij-o-khayyam mein tha | han kuchh usaka bhee gunahagar hoon main || hooron-gilaman ka yahan zikr nahin | noa-e-insan ka parastar hoon main……….
Short Passage of Majaj aur Unki Shayari Hindi PDF Book : Recognize well that I am Asrar. With whom – I am the seeker of Ulfat || Arbabe-Khirad is in Khwabe-Ishrat. And I am a poet-bedar || Ab which was in Hafiz-o-Khayyam. Yes, I am also guilty of some of that. Huron-Gilmaan is not mentioned here. I am a follower of Noah-e-Insan…….
“अपने डैनों के ही बल उड़ने वाला कोई भी परिंदा बहुत ऊंचा नहीं उड़ता।” ‐ विलियम ब्लेक (१७५७-१८२७), अंग्रेज़ कवि व कलाकार
“No bird soars too high if he soars with his own wings.” ‐ William Blake (1757-1827), British Poet and Artist

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment