मनन और मंतव्य : दुर्गाशंकर मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Manan Aur Mantavya : by Durgashankar Mishra Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

मनन और मंतव्य : दुर्गाशंकर मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Manan Aur Mantavya : by Durgashankar Mishra Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मनन और मंतव्य / Manan Aur Mantavya
Author
Category, , , ,
Language
Pages 173
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : “उत्तर रामचरित’ की कथावस्तु में जो एकसूत्रता और स्वामाविकता का अभाव देख पडता हैं उसका कारण यही है कि नाटककार ने जितना अधिक ध्यान अपनी नाद्कृति के प्रधान पात्रो के चरित्र-चित्रण की ओर दिया है उतना कथावस्तु की ओर नहीं । यद्यपि उत्तर रामचरित में अनेक पात्नो की अवतारणा की गई है पर राम और सीता ही प्रधान पात्र है तथा वह दोनो………

Pustak Ka Vivaran : “Uttar Ramcharit kee kayavastu mein jo Ekasootrata aur Svamavikata ka Abhav dekh padata hain usaka karan yahi hai ki Natakkar ne jitana adhik dhyan apani Nadyakrti ke pradhan patro ke charitr-chitran kee or diya hai utana kathavastu kee or nahin . yadyapi uttar Ramcharit mein anek patno kee avatarana kee gayi hai par Ram aur seeta hee pradhan patra hai tatha vah dono………

Description about eBook : The reason for the lack of uniformity and naturalism seen in the theme of “Uttar Ramcharit” is that the playwright has not paid as much attention to the characterization of the protagonists of his nadakriti. Although many husband have been revealed in North Ramcharit, but Ram and Sita are the main characters and both of them…….

“मैं अपने भाग्य का नियंत्रक हूं, मैं अपनी आत्मा का नियंता हूं।” – विलियम अर्न्स्ट हेन्ले
“I am the master of my fate; I am the captain of my soul.” – William Ernest Henley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment