मानव जीवन की गरिमा : श्री राम शर्मा आचार्य द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Manav Jeevan Ki Garima : by Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book

मानव जीवन की गरिमा : श्री राम शर्मा आचार्य द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Manav Jeevan Ki Garima : by Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मानव जीवन की गरिमा / Manav Jeevan Ki Garima
Author
Category,
Language
Pages 33
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

मानव जीवन की गरिमा का संछिप्त विवरण : मनुष्य जीवन इस सृष्टि की सबसे श्रेष्ठ रचना है | लगता है भगवान ने अपनी सारी कारीगरी समेटकर इसे बनाया है | जिन गुणो और विशेषताओं के साथ इसे भेजा गया है वे अनय किसिस प्राणी को प्राप्त नहीं है | इस कथन मे भगवान पर पक्षपाती होने का आरोप लग सकता है, किन्तु बात ऐसी है नहीं | भगवान तो सबका पालनहार पिता है, उसे अपनी सभी संताने एक समान प्रिय है और वह न्याय प्रिय है………

Manav Jeevan Ki Garima PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aaj hamaare desh bhaarat kee sthiti ek aise asahaay yaatree jaisee ho gayee hai jo ghane jangal mein apana raasta bhool gaya hai, aur use jangalee jaanavaron ke beech se vaapas surakshit lautane kee koee aasha nahin hai. aajaadee ke baad 50 saalon tak bhaarat ek aise galat raaste par chalata raha hai jahaan se ab sachche svaraajy ka raasta kisee ko soojh nahin raha hai………….
Short Description of Manav Jeevan Ki Garima PDF Book : Today our country India has become like a helpless traveler who has forgotten its way in the dense forest, and there is no hope of returning safe from wild animals. For fifty years after Independence, India has been running on such a wrong path, from where no one is finding the way to true Swarajya………….
“हम प्रयास के लिए उत्तरदायी हैं, न कि परिणाम के लिए।” ‐ गीता
“We are responsible for the effort, not the outcome.” ‐ Geeta

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment