मानव प्रगति एवं पर्यावरण : श्री राम शर्मा आचार्य द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Manav Pragati Evam Paryavaran : by Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book

मानव प्रगति एवं पर्यावरण : श्री राम शर्मा आचार्य द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Manav Pragati Evam Paryavaran : by Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मानव प्रगति एवं पर्यावरण / Manav Pragati Evam Paryavaran
Category,
Pages 153
Quality Good
Size 4.7 MB
Download Status Available

मानव प्रगति एवं पर्यावरण का संछिप्त विवरण : औध्योगिक, आर्थिक, वैज्ञानिक एवं राजनैतिक क्रांतियों का दौर विगत दो शताब्दियों मे चला है। विगत डेढ़ सौ वर्षों को विशेष रूप से मानवी प्रगति का दौर कहा जाता है। मानव चंद तक पहुँच गया जंगल उसने ब्रह्मांड मे पृथ्वी की कक्षा मे खड़े कर दिये है। उसी तादाद मे उसने औद्धयोगीकरण शहरीकरण के बढ़ते अभिशाप……….

Manav Pragati Evam Paryavaran PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : audhyogik, aarthik, vaigyaanik evan raajanaitik kraantiyon ka daur vigat do shataabdiyon me chala hai. vigat dedh sau varshon ko vishesh roop se maanavee pragati ka daur kaha jaata hai. maanav chand tak pahunch gaya jangal usane brahmaand me prthvee kee kaksha me khade kar diye hai. usee taadaad me usane auddhyogeekaran shahareekaran ke badhate abhishaap………….
Short Description of Manav Pragati Evam Paryavaran PDF Book : The period of industrial, economic, scientific and political revolutions has been in the last two centuries. Past Hundred Years is said to be a period of human progress especially. The human has reached a few forests in the orbit of the earth in the universe. In the same proportion, the increasing curse of urbanization …………..
“सभी जो चर्च जाते हैं संत नहीं होते” ‐ इटली की कहावत
“All are not saints who go to church.” ‐ Italian proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment