मनुष्य जाति की प्रगति : भगवान दास केला द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Manushy Jati Ki Pragati : by Bhagwan Das Kela Hindi PDF Book – History (Itihas)

मनुष्य जाति की प्रगति : भगवान दास केला द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Manushy Jati Ki Pragati : by Bhagwan Das Kela Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मनुष्य जाति की प्रगति / Manushy Jati Ki Pragati
Author
Category, , ,
Language
Pages 386
Quality Good
Size 16 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : संसार में परिवर्तन होता रहता है | सबेरा होता है, दोपहर होती है, शाम होती है, और रात होती है | कभी थोड़ा-थोड़ा उजाला होता है, कभी खूब तेज रोशनी, और कभी घोर अंधकार | किसी समय बारिश है | आदमी की हालत भी बदलती रहती है-बचपन होता है, जवानी आती है, पीछे बुढ़ापा आ घेरता है | ये परिवर्तन धीरे-धीरे……….

Pustak Ka Vivaran : Sansar mein parivartan hota Rahta hai. Savera hota hai, dopahar hoti hai, sham hoti hai, Aur Rat hoti hai. kabhi Thoda-Thoda ujala hota hai, kabhi khoob tej Roshani, aur kabhi Ghor Andhakar. kisi samay barish hai. Aadami ki halat bhi badalati Rahati hai-bachapan hota hai, Javani Aati hai, Peechhe budhapa aa Gherata hai. Ye parivartan dheere-dheere………….

Description about eBook : Changes in the world are changing. There is a morning, noon, evening, and night. Sometimes it is light, sometimes bright, and sometimes dark. There is no rain at all. The condition of man also varies – childhood happens, youth comes, old age comes back. These changes graduall…………..

“व्यक्ति कर्मों से महान बनता है, जन्म से नहीं।” – चाणक्य
“A man is great by deeds, not by birth.” -Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment