मनुष्य- शिव सिंह भाटी मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड | Manushya by Shiv Singh Bhati Hindi Pdf Book Free Download |

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मनुष्य / Manushya
Author
Category, , , ,
Language
Pages 100
Quality Good
Size 1852 KB
Download Status Available

मनुष्य पुस्तक का कुछ अंश : पौष माह की भयानक सर्द रात के अन्तिम पहर से पहले ही वृद्धा तेज कवर अपने झोपडे मे चारपाई के विस्तर से सदा की तरह उठ बैठी। उसने सहेज कर गुदकी को एक ओर किया और सदे कदमो से झोपडे के बीचो-बीच अलाव के पात आकर, उसने लकडी के ठूठ से अलाव को कुरेदना शुरु किया। अलाव की तलहटी मे मद्धिम- मद्धिम आग लिए अंगारे……….

Manushya PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Paup mah ki Bhayanak sard rat ke antim pahar se pahale hi vriddha tej kavar apne jhopade me charpai ke vistar se sada ki tarah uth baithi. Usane sahej kar gudaki ko ek or kiya aur sade kadamo se jhopade ke beecho-beech alav ke pat Aakar, usane lakdi ke thooth se alav ko kuredana shuru kiya. Alav ki talahati me maddhim- maddhim aag liye angare……….
Short Passage of Manushya Hindi PDF Book : Even before the last hour of the terrible cold night of the month of Pope, the old Tej Kavar got up from the bed of the cot in her hut as usual. He saved Gudki aside and with steady steps, coming to the hearth of the alav in the middle of the hut, he started scraping the alav with a stick of wood. In the foothills of the bonfire, the embers took a slow fire……..
“आप हमेशा परिस्थितियों को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं, लेकिन आप स्वयं को नियंत्रित कर सकते हैं।” ‐ एंथनी रोब्बिन्स
“You can’t always control the wind, but you can control your sails.” ‐ Anthony Robbins

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment