मनुष्य का परम कर्तव्य हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Manushya ka Param Kartavya Hindi Book Free Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मनुष्य का परम कर्तव्य / Manushya ka Param Kartavya
Author
Category,
Language
Pages 187
Quality Good
Size 14.6 MB
Download Status Available

मनुष्य का परम कर्तव्य पुस्तक का कुछ अंश : जब मनुष्य भगवानके विरहमें व्याकुल हो जाता है, भगवान से मिलने की तीव्र उत्कट इच्छा उसके हृदयमें जाग्रत्‌ हो जाती हैं, तब भगवान्‌ उस भक्त के पास आये बिना नहीं रह सकते | अतः भगवान के मिलने में तीत्र इच्छा ही प्रधान हेतु है। संसार के पदार्थ तो उनके………

Manushya ka Param Kartavya PDF Pustak Ka Kuch Ansh : Jab Manushy Bhagwan ke virahamen vyakul ho jata hai, Bhagwan se milne ki teevra utkat ichchha usake hrdayamen jagrat‌ ho jati hain, tab Bhagwan‌ us bhakt ke pas aaye bina nahin rah sakate. Atah Bhagwan ke milane mein teetra ichchha hi pradhan hetu hai. Sansar ke padarth to unke………
Short Passage of Manushya ka Param Kartavya PDF Book : When a man is distraught with separation from the Lord, an intense burning desire to meet the Lord awakens in his heart, then the Lord cannot help but come to that devotee. Therefore, in meeting God, the desire is the main motive. The things of the world are theirs………
“मन जो स्नेह संजो सकता है उन में से सबसे पवित्र है किसी नौ वर्षीय का निश्छल प्रेम।” – होलमैन डे
“The purest affection the heart can hold is the honest love of a nine-year-old.” – Holman Day

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment