मरणोत्तर जीवन – स्वामी विवेकानंद हिंदी पुस्तक पीडीऍफ़ | Maranottar Jeevan Swami

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मरणोत्तर जीवन / Maranottar Jeevan
Author
Category, ,
Language
Pages 40
Quality Good
Size 2.9 MB
Download Status Available

मरणोत्तर जीवन पुस्तक का कुछ अंश : बौद्ध धर्म का आधार है, पुराने मित्न देश निवासी विद्वान् लोग इसे मानते थे। पुराने ईरानी लोगों ने भी इस विश्वास को ग्रहण किया, यूनानी तत्तवेत्ताओं ने इसे अपने दर्शनशास्त्र की नींव बनाई, हिब्रुओं में से फैरिसी लोगों ने इसे स्वीकार किया, मुसलमानों में से प्रायः सभी सूफियों ने इसकी सत्यता को मान लिया…..

Maranottar Jeevan PDF Pustak Ka Kuch Ansh : Bauddh Dharm ka aadhar hai, purane mitn desh nivasi vidvan log ise manate the. Purane Erani logon ne bhi is vishvas ko grahan kiya, yoonani tattavettaon ne ise apane darshanashastra ki neenv banayi, hibruon mein se phairisee logon ne ise svikar kiya, Musalmanon mein se prayah sabhi soophiyon ne isaki satyata ko man liya……….
Short Passage of Maranottar Jeevan PDF Book : It is the basis of Buddhism, the learned people of the old Mitna country used to believe in it. The old Iranians accepted this belief, the Greek philosophers made it the foundation of their philosophy, the Pharisees accepted it among the Hebrews, the Sufis among the Muslims accepted its truth……..
“उपलब्धि के चार कदम: उद्देश्यपूर्ण योजना बनाए। प्रार्थना के साथ तैयारी करें। सकारात्मक रूप से आगे बढ़े। निरन्तर अपने लक्ष्य के लिए प्रयासरत रहें।” ‐ विलियम ए. वार्ड
“Four steps to achievement: Plan purposefully. Prepare prayerfully. Proceed positively. Pursue persistently.” ‐ William A. Ward

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment