मातृवाणी : आचार्य श्री अभयदेव विद्यालंकार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Matravani : by Acharya Shri Abhaydev Vidyalankar Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameमातृवाणी / Matravani
Author
Category, ,
Pages 218
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

मातृवाणी का संछिप्त विवरण : हर एक सजीव प्राणी के लिये यह एक अमूल्य संपद हैं, कि उसले अपने-आप को जानना और अपने-आप पर प्रभुत्व प्राप्त करता सीख लिया है | अपने-आप को जानने का अर्थ है अपती क्रियाओं और प्रतिक्रियाओं के प्रेरक भावों को जालना, यह जानला कि अपने अंदर जो तुच्छ भी चेष्टा होती है वह कैसे औरक्यों होती है । अपने-आपार प्रभुत्व प्राप्त करले का…….

Matravani PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Har ek Sajeev Prani ke liye yah ek Amuly sampad hain, ki usane apane-aap ko janana aur apane-aap par prabhutv prapt karana seekh liya hai . Apane-Aap ko janane ka arth hai apani kriyaon aur pratikriyaon ke prerak bhavon ko janana, yah janana ki apane andar jo tuchchh bhee cheshta hoti hai vah kaise aur kyon hoti hai . Apane-Aapar prabhutv prapt karane ka………
Short Description of Matravani PDF Book : It is an invaluable asset for every living being, that he has learned to know himself and gain dominion over himself. To know oneself means to know the motivational expressions of your actions and reactions, to know how and why the insignificant feeling inside you is there. To achieve self-dominance ………
“जीवन में दो मूल विकल्प होते हैं: स्थितियों को उसी रूप में स्वीकार करना जैसी वे हैं, या उन्हें बदलने का उत्तरदायित्व स्वीकार करना।” ‐ डेनिस वेटले
“There are two primary choices in life: to accept conditions as they exist, or accept the responsibility for changing them.” ‐ Denis Waitley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment