मिनाक्षी- अशोक ज्योतिबा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Meenakshi by Jyotiba Ashok Hindi Book Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मिनाक्षी / Meenakshi
Author
Category,
Language
Pages 19
Quality Good
Size 238 KB
Download Status Available

मिनाक्षी पुस्तक का कुछ अंश : हर एक के मन में हजारों छिपे जज्बात होते है कुछ को कई बार अलफ़ाज़ मिल जाते है तो कुछ जज्बात मन की गहराइयों में हमेशा-हमेशा के लिए दफ्न हो जाते है | मैंने भी अपने जज्बात को मन कि गहराइयों से निकाल कर अल्फाजो में ढालने की कोशिश की है | कोशिश है कि मेरे जज्बात आप तक पहुचे | अब इसमें मै कितना सफल हुआ हू ये फैसला आपका रहा……..

Meenakshi PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Har Ek ke man mein hajaron chhipe jajbat hote hai kuchh ko kayi bar Alafaz mil jate hai to kuchh jajbat man ki gaharaiyon mein hamesha-hamesha ke liye daphn ho jate hai. Mainne bhi apane jajbat ko man ki gaharaiyon se nikal kar alphajo mein dhalane ki koshish ki hai. Koshish hai ki mere jajbat aap tak pahuche. Ab isamen mai kitana saphal huya hoo ye phaisala aapaka raha……..
Short Passage of Meenakshi Hindi PDF Book : There are thousands of hidden emotions in everyone’s mind, some find words several times, while some emotions get buried in the depths of the mind forever. I have also tried to extract my feelings from the depths of my mind and put them in words. Trying to make my feelings reach you. Now it is up to you to decide how successful I am in this……….
“गुणवत्ता की कसौटी बनें। कई लोग ऐसे वातावरण के अभ्यस्त नहीं होते जहां उत्कृष्टता अपेक्षित होती है।” स्टीव जॉब्स
“Be a yardstick of quality. Some people aren’t used to an environment where excellence is expected.” Steve Jobs

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment