मेंढक और दुनिया की सैर : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Mendhak Aur Duniya Ki Sair : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameमेंढक और दुनिया की सैर / Mendhak Aur Duniya Ki Sair
Category, ,
Language
Pages 14
Quality Good
Size 859 KB
Download Status Available

मेंढक और दुनिया की सैर का संछिप्त विवरण : एक मील आगे चलने के बाद मेंढक बैठ गया. “मुझे भूख लगी है,” उसने कहा. “हम दोपहर का भोजन कब कर सकते हैं?” “क्या?” चूहा चिल्‍्लाया. “हमने अभी-अभी तो अपनी यात्रा शुरू की है!” फिर भी, मेंढक ने अपने रकसैक में से दो मक्खन के सैंडविच निकाले. वो उन्हें खुद खाने को तैयार था. “यह केवल नाश्ता है,” चूहे ने सख्ती से कहा. “हमें अभी एक लंबा रास्ता तय करना है……..

Mendhak Aur Duniya Ki Sair PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ek Meel Aage chalne ke bad Mendhak baith gaya. “Mujhe Bhookh lagei hai,” Usne kaha. “Ham Dophar ka bhojan kab kar sakte hain?” “Kya?” Chooha chil‍laya. “Hamane abhi-abhi to apni yatra shuru ki hai!” Phir bhi, Mendhak ne apne rucksack mein se do makkhan ke sandavich nikale. Vo unhen khud khane ko taiyar tha. “Yah keval Nashta hai,” Choohe ne sakhti se kaha. “Hamen abhi ek lamba Rasta tay karana hai…….
Short Description of Mendhak Aur Duniya Ki Sair PDF Book : After walking a mile, the frog sat down. “I’m hungry,” she said. “When can we have lunch?” “What?” cried the mouse. “We have just started our journey!” Nevertheless, the frog took out two butter sandwiches from his rucksack. He was ready to eat them himself. “It’s only breakfast,” said the mouse sternly. “We still have a long way to go……
“अपने भीतर यदि आप एक आवाज को सुनते हैं कि “आप चित्रकारी नहीं कर सकते हैं,” तो जैसे भी बन पड़े चित्रकारी करें, और वह आवाज शांत हो जाएगी।” ‐ विन्सेंट वॉन गॉघ
“If you hear a voice within you say “you cannot paint,” then by all means paint and that voice will be silenced.” ‐ Vincent Van Gogh

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment