सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

मेरे कथा गुरु का कहना है / Mere Katha Guru Ka Kahana Ha

मेरे कथा गुरु का कहना है : रावी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Mere Katha Guru Ka Kahana Hai : by Ravi Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मेरे कथा गुरु का कहना है / Mere Katha Guru Ka Kahana Ha
Author
Category, , , ,
Language
Pages 179
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

मेरे कथा गुरु का कहना है पुस्तक का कुछ अंश : मैं उस दुकान में घुसा और ड्योढ़ी के पास ही दुकानदारों ले मेरा अभिवादन किया। मैंने उससे कहा कि मैं कुछ सुख खरीदना चाह्वता हूँ। वह मुझे सुख की वस्तुएं दिखाले के लिए सम्मानपूर्वक मेरे आगे-आगे चला। अगणित छोटी-बड़ी कोठरियों से बती उस दुकान में सौदे की कोई वस्तु मुझे दिखाई त दी…….

Mere Katha Guru Ka Kahana Ha PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Main us Dukan mein Ghusa aur dyodhee ke pas hee dukanadaron ne mera Abhivadan kiya. Mainne usase kaha ki main kuchh sukh khareedana chahata hoon. Vah Mujhe Sukh kee Vastuen dikhane ke liye Sammanapurvak mere Aage-aage chala. Aganit chhoti-badi kothariyon se bani us dukan mein saude ki koi vastu mujhe dikhai na di…………
Short Passage of Mere Katha Guru Ka Kahana Ha Hindi PDF Book : I entered that shop and the shopkeepers greeted me near Deodhi. I told him that I want to buy some happiness. He respectfully walked ahead of me to show me the things of happiness. I did not see any item of the deal in that shop made of small and big chambers …………
“मैंने यह पाया है कि यदि आप जिंदगी को प्यार करते हैं, तो जिंदगी भी आपको प्यार करती है।” ‐ आर्थर रूबिन्स्टीन
“I have found that if you love life, life will love you back.” ‐ Arthur Rubinstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment