मीठे का शौक़ीन मुचकुंद : माधव गाडगिल द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Muchkund and His Sweet Tooth : by Madhav Gadgil Free Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मीठे का शौक़ीन मुचकुंद / Muchkund and His Sweet Tooth
Category, , ,
Language
Pages 36
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

मीठे का शौक़ीन मुचकुंद का संछिप्त विवरण : यह कहानी है मुचकुंद की जो एक बड़ा ही होनहार जवान भूत है और पुणे के वेताल बाबा भूत परिवार से हैं| एक मुन्ज्या भूत होने के कारण वह दल के बाकी भूतों से कहीं अधिक चतुर है और स्वाभाव से मददगार भी| वह पुणे विश्वविध्यालय परिसर में एक विशाल पीपल के पेड़ पर रहता है| मुचकुंद अक्सर विश्वविध्यालय की कक्षाओं में एक छात्र के रूप में जा बैठता है| बीच-बीच में वह किसी गौरेया का रूप धर कर प्रयोगशाला की खिडकियों पर बैठ कर भीतर हो रहे प्रयोगों को देखता है| वह सदा ज्ञान की खोज में जूता रहता है…………..

Muchkund and His Sweet Tooth PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Yah kahani hai Muchkund ki jo ek bada hi honhar javaan bhoot hai aur pune ke vetal baba bhoot parivar se hain. Ek munjya bhoot hone ke karan vah dal ke baki bhooton se kahin adhik chatur hai aur svabhav se madadgar bhi. Vah pune vishvavidhyalay parisar mein ek vishal peepal ke ped par rahata hai. Muchkund aksar vishvavidhyalay ki kakshaon mein ek chhatra ke roop mein ja baithata hai. Beech-beech mein vah kisi gaureya ka roop dhar kar prayogashala ki khidakiyon par baith kar bheetar ho rahe prayogon ko dekhata hai. Vah sada gyan ki khoj mein joota rahata hai…………..
Short Description of Muchkund and His Sweet Tooth PDF Book : This is the story of Mukchand who is a very promising young ghost and Vetal Baba from Pune belongs to the ghost family. Due to being a monster ghost, he is more clever than the other ghosts of the party and also helpful by nature. She lives on a huge peepal tree in the University of Pune campus. Mukchand often goes as a student in classrooms of the University. In between, he sees the experiments being done by sitting on the window of the laboratory by making the form of a gauraya. He keeps shoe in search of knowledge forever…………….
“अवसर सूर्योदय की तरह होते हैं। यदि आप ज्यादा देर तक प्रतीक्षा करते हैं तो आप उन्हें गंवा बैठते हैं।” ‐ विलियम आर्थर वार्ड
“Opportunities are like sunrises. If you wait too long, you miss them.” ‐ William Arthur Ward

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment