मुक्तक काव्य परम्परा और बिहारी : डॉ. रामसागर त्रिपाठी द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Muktak Kavya Parampara Aur Bihari : by Dr. Ramsagar Tripathi Hindi PDF Book

मुक्तक काव्य परम्परा और बिहारी : डॉ. रामसागर त्रिपाठी द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Muktak Kavya Parampara Aur Bihari : by Dr. Ramsagar Tripathi Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मुक्तक काव्य परम्परा और बिहारी / Muktak Kavya Parampara Aur Bihari
Category, , ,
Pages 610
Quality Good
Size 60 MB
Download Status Available

मुक्तक काव्य परम्परा और बिहारी का संछिप्त विवरण : अनेक स्वाद भरी बिहारी सतसई के अध्ययन की लंबी परंपरा है। हिन्दी का यह ग्रंथ सुदुर्लभ सौभाग्यशाली है जिसकी टिकाये और अनुवाद पहले ही संकृत और उर्दू मे भी हो चुके है। परंतु टीका व्याख्या और अनुवाद की प्रगाढ़ परंपरा होते हुए भी यह कहा जा सकता है की अध्ययन सिमित क्षेत्र मे ही होता रहा……….

Muktak Kavya Parampara Aur Bihari PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : anek svaad bharee bihaaree satasee ke adhyayan kee lambee parampara hai. hindee ka yah granth sudurlabh saubhaagyashaalee hai jisakee tikaaye aur anuvaad pahale hee sankrt aur urdoo me bhee ho chuke hai. parantu teeka vyaakhya aur anuvaad kee pragaadh parampara hote hue bhee yah kaha ja sakata hai kee adhyayan simit kshetr me hee hota raha………….
Short Description of Muktak Kavya Parampara Aur Bihari PDF Book : There is a long tradition of studying many tastes of Bihari Satasai. This book of Hindi is a great fortune, whose story and translations have already been translated and translated into Urdu too. But despite the vacuum interpretation and a strong tradition of translation, it can be said that the study continued in the limited area……………
“जब तक ईमानदारी नहीं है, तो सम्मान कहां से आएगा?” ‐ सीसेरो
“Where is there dignity unless there is honesty?” ‐ Cicero

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment