मुंशी प्रेमचंद : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कॉमिक | Munshi Premchand : Hindi PDF Book – Comic

बड़े घर की बेटी : मुंशी प्रेमचंद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कॉमिक | Bade Ghar Ki Beti : by Munshi Premchand Hindi PDF Book - Comic
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मुंशी प्रेमचंद / Munshi Premchand
Author
Category, ,
Language
Pages 21
Quality Good
Size 3.2 MB
Download Status Available

मुंशी प्रेमचंद पुस्तक का कुछ अंशइस लिखा पढ़ी का कुछ सार नहीं निकला और वे सरकारी नौकरी करते रहे। बराबर दौरे करते रहने का असर उनकी सेहत पर पड़ा। 1916 में उनका तबादिला एक अध्यापक के रूप में गोरखपुर के लिए कर दिया गया। जिस दिन वे गोरखपुर पहुंचे, ठीक उसी दिन उनके पहले पुत्र श्रीपत का जन्म हुआ। मैं अंधविश्वासी नहीं पर क्या यह आरम्भ शुभ नहीं ? उनका घर शिक्षा विभाग के एक बड़े अफसर के बगले के पास था। एक बार – यह क्या तरीका है कि आप मेरे पास से निकल जाते है और सलाम तक नहीं करते। आप आप बड़े अफसरों क कोई इज्जत नहीं करते………

Munshi Premchand PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Is Likha Padhi ka kuchh sar nahin nikala aur ve Sarkari Naukari karte rahe. Barabar daure karte rahane ka asar unki sehat par pada. 1916 mein unaka tabadila ek adhyapak ke roop mein gorakhapur ke liye kar diya gaya. Jis din ve Gorakhapur pahunche, theek usee din unake pahale putr shripat ka janm huya. Main Andhavishvasi nahin par kya yah Aarambh shubh nahin ? Unaka ghar shiksha vibhag ke ek bade aphasar ke bagale ke pas tha. Ek bar – yah kya tarika hai ki aap mere pas se nikal jate hai aur salam tak nahin karate. Aap aap bade Aphasaron ka koi ijjat nahin karte………
Short Passage of Munshi Premchand Hindi PDF Book : Nothing came out of this study and he continued to do government job. The constant touring had an effect on his health. In 1916, he was transferred to Gorakhpur as a teacher. The day he reached Gorakhpur, his first son Shripat was born on the same day. I am not superstitious but isn’t this beginning auspicious? His house was next to a senior official of the education department. Once – what is this way that you leave me and don’t even salute. You don’t give any respect to senior officers…….
“अपना जीवन जीने के केवल दो ही तरीके हैं। पहला यह मानना कि कोई चमत्कार नहीं होता है। दूसरा है कि हर वस्तु एक चमत्कार है।” ‐ अल्बर्ट आईन्सटीन
“There are only two ways to live your life. One is as though nothing is a miracle. The other is as though everything is a miracle.” ‐ Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment