सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

नारद संहिता (ज्योतिष ग्रन्थ) / (Narad Samhita Jyotish Grantha)

नारद संहिता ज्योतिष ग्रन्थ : श्री कृष्ण दास द्वारा मुफ्त नारद संहिता हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Narad Samhita Jyotish Grantha : by Shri Krishna Das Free Narad Samhita Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name नारद संहिता (ज्योतिष ग्रन्थ) / (Narad Samhita Jyotish Grantha)
Author
Category, ,
Language
Pages 309
Quality Good
Size 33 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

पुस्तक का विवरण : सिद्धान्त, संहिता और होरा इन तीन स्कन्धों से युक्त ज्योतिः- शास्त्र वेद का नेत्र कहा जाता है । संसार का शुभाशुभ् विषय आँखों से ही देखा जा सकताहै, इसी प्रकार वेद विहित शुभाशुभ कर्मों का उपादान और त्याग अर्थात्‌ कोन कम किप्त समय करना और कब न करना; किस प्रकार करना इत्यादि नेत्रका कार्यज्योतिष…….

Pustak Ka Vivaran : Siddhant, Sanhita aur hora in teen skandhon se yukt jyotih- shastra ved ka netr kaha jata hai. Sansar ka shubhashubh vishay Aankhon se hei dekha ja sakatahai, isi prakar ved vihit shubhashubh karmon ka upadan aur tyag arthat‌ kon kam kipt samay karna aur kab na karna; kis prakar karana ityadi netraka karyajyotish…….

Description about eBook : The light consisting of these three skandhas, Siddhanta, Samhita and Hora- Shastra is said to be the eye of the Vedas. The good and bad things of the world can be seen only with the eyes, similarly, the material and renunciation of good and bad deeds prescribed in the Vedas, that is, which time to do and when not to do; How to do etc. Astrology of the eye…….

“किसी को अपने सपने चुराने न दें। यह आपके अपने सपने हैं, न कि किसी ओर के।” डैन जाड्रा
“Don’t let anyone steal your dream. It’s your dream, not theirs.” Dan Zadra

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

1 thought on “नारद संहिता (ज्योतिष ग्रन्थ) / (Narad Samhita Jyotish Grantha)”

Leave a Comment