नारी जीवन की कहानियाँ : प्रेमचन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Nari Jeevan Ki Kahaniyan : by Premchand Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameनारी जीवन की कहानियाँ / Nari Jeevan Ki Kahaniyan
Author
Category, ,
Pages 272
Quality Good
Size 15.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कुछ देर तक तो वह ज़ब्त किये बैठी रही ; पर अन्त में न रहा गया। स्वायत्त शासन उसका स्वभाव हो गया था। वह क्रोध में भरी हुई आई और कामतानाथ से बोली – क्या आटा तीन ही बोरे लाये ? मैंने तो पाँच बोरों के लिए कहा था। और घी भी पाँच ही टिन मँगवाया। तुम्हें याद है, मैंने दस कनस्तर कहा था? किफ़ायत को मैं बुरा नहीं……..

Pustak Ka Vivaran : Kuchh der tak to vah zabt kiye baithi rahi ; par ant mein na raha gaya. Svayatt shasan usaka svabhav ho gaya tha. Vah krodh mein bhari huyi aayi aur kamatanath se boli – kya Aata teen hi bore laye ? Mainne to Panch boron ke liye kaha tha. Aur Ghee bhee panch hee tin Mangavaya. Tumhen yad hai, mainne das kanastar kaha tha ? Kifayat ko main bura nahin……….

Description about eBook : She remained seized for some time; But in the end it was no more. Self governance had become his nature. She came in full of anger and said to Kamatanath – Did the last one bring three sacks? I had asked for five bags. And Ghee also ordered only five tin. Do you remember I said ten canisters? I am not bad at saving ……….

“परिस्थितियां मानव नियंत्रण से बाहर हैं, लेकिन हमारा आचरण हमारे ही नियंत्रण में है।” – बेंजामिन डिसरायलि
“Circumstances are beyond human control, but our conduct is in our own power.” -Benjamin Disraeli

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment