नव विधान- शरतचंद्र मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Nav Vidhan by Saratchandra Hindi Book Download

नव विधान- शरतचंद्र मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Nav Vidhan by Saratchandra Hindi Book Download
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name नव विधान / Nav Vidhan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 124
Quality Good
Size 12 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : संभलकर बात कहता था और न उसकी जिम्मेदारी ही अपने ऊपर लेता था। दिग्गज पण्डित अंग्रेजी न जानते थे। किसी स्त्री के परीक्षा पास करने का समाचार सुनते ही क्रोध के मारे उनके बदन में आग लग जाती थी। भूपेन्द्र बाबू की कन्या के प्रसंग में वे एकाएक कह उठे……….

Pustak Ka Vivaran : Aaj tum dekh sakti to” Sameer ke is kathan par Neeloo dheere se bolee-“Achchha hi huya jo mujhe roshani nahin mili, varna aapki hamdardi kho deti !” is par bhav-vibhor hokar sameer ne kaha–“Lekin uske vajay tumhen pyar mil jata neeloo ! Sunkar Neeloo ke kanon mein shahanayi ke svar goojane lage. Laj se uska sir jhuk gaya……..

Description about eBook : If you can see today” Neelu said softly on this statement of Sameer – “It is good that I did not get the light, otherwise I would have lost your sympathy!” On this, Sameer said, “But instead of that you would have found love, Neelu! Hearing this, shehnai’s voices started reverberating in Neelu’s ears. She bowed her head in shame……..

“संतान पैदा करने का निर्णय लेना – यह बड़ा ही भारी काम है। यह निर्णय अपने ही हृदय को हमेशा के लिए शरीर से बाहर भेज देने जैसा है।” एलिज़ाबेथ स्टोन
“Making the decision to have a child – it is momentous. It is to decide forever to have your heart go walking around outside your body.” Elizabeth Stone

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment