नये ज़माने की परीकथाएँ : होल्गर बुक द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Naye Jamane Ki Pari Kathayen : by Holgar Buk Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameनये ज़माने की परीकथाएँ / Naye Jamane Ki Pari Kathayen
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 29
Quality Good
Size 4.6 MB
Download Status Available

नये ज़माने की परीकथाएँ का संछिप्त विवरण : “सम्माननीय परिषद, मैं कसूरवार हूँ। मैं यकीनन कुसूरवार हूँ। लेकिन मुझे अपनी बात समझाने की इजाजूत दीजिये। मैं एक चिन्तक हूँ। मैं महान बातें सोचता हूँ। मैं महान योजनाएँ बनाता हूँ। इसलिए मुझे शान्त माहौल चाहिए। लेकिन भला यह मुझे मिले कैसे, जबकि पिल्‍्ला लगातार भूंकता रहता है, बछेड़ा हिनहिनाता रहता, सांड हुँकार…….

Naye Jamane Ki Pari Kathayen PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : SammananIy Parishad, main kasoorvar hoon. main yakInan kusoorvar hoon. lekin mujhe apnI Bat samajhane kI izajoot deejiye. Main ek chintak hoon. Main Mahan baten sochata hoon. Main Mahan yojnayen banata hoon. Isliye mujhe shant mahaul chahiye. Lekin bhala yah mujhe mile kaise, jabaki pilla lagatar bhoonkata rahata hai, Bachheda hinahinata rahata, sand hoonkar……….
Short Description of Naye Jamane Ki Pari Kathayen PDF Book : Honorable Council, I am guilty. I am definitely guilty. But allow me to explain my point. I am a thinker. I think great things. I make great plans. That’s why I want a quiet environment. But how can I get this, when the puppy keeps barking continuously, the colt keeps snoring, the bull is the car………
“मुझे अपने प्रशिक्षण के प्रत्येक क्षण से नफरत थी, लेकिन मैंने कहा, “हार नहीं मानो। अभी कष्ट उठा लो और शेष जीवन विजेता की तरह जियो।”” ‐ मोहम्मद अली
“I hated every minute of training, but I said, “Don’t quit. Suffer now and live the rest of your life as a champion.”” ‐ Muhammad Ali

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment