निर्वसना : श्री गोपाल आचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – जीवनी | Nirvasana : by Shri Gopal Acharya Hindi PDF Book – Biography (Jeevani)

निर्वसना : श्री गोपाल आचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - जीवनी | Nirvasana : by Shri Gopal Acharya Hindi PDF Book - Biography (Jeevani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name निर्वसना / Nirvasana
Author
Category, , , ,
Language
Pages 180
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : निर्वलना एक ऐसी रमणी के जीवन का चित्र है जो परिस्थितियों द्वारा समाज के एक विलासमय जगत में ढकेल दी गई थी। शरीर से गिरने पर भी आत्मा से वह कभी नहीं गिरी। उसने अवसर आने पर जीवन के नये मूल्य पर विचार किया और उन्हें आदर्श समझकर जीवन में अनुसरण किया। जीवन की वास्तविकता से वह…..

Pustak Ka Vivaran : Nirvasana Ek Aisee Ramani ke Jeevan ka Chitra hai jo Paristhitiyon Dvara Samaj ke ek Vilasamay jagat mein dhakel dee gayi thee. Shareer se Girane par bhee Aatma se vah kabhi Nahin Giri. Usane Avasar aane par Jeevan ke Naye Mooly par Vichar kiya aur unhen Aadarsh samajhakar jeevan mein anusaran kiya. Jeevan kee Vastavikata se vah door………

Description about eBook : Nirvasana is a picture of the life of a Ramani who was pushed into a luxurious world of society by circumstances. She never fell from the soul even after falling from the body. When the opportunity came, he considered the new value of life and considered them ideal and followed in life. Away from the reality of life ………

“एक बार एक युवक को एक अच्छी सलाह प्राप्त करते हुए मैंने सुना था कि, “हमेशा वह कार्य करो जिसको करने से आप ड़रते हैं।”” ‐ राल्फ वाल्डो एमर्सन
“It was a high counsel that I once heard given to a young person, “Always do what you are afraid to do.”” ‐ Ralph Waldo Emerson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment