पैसा घूमे गोल-गोल : मेल्विन बर्जर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Paisa Ghoome Gol-Gol : by Melvin Berger Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

पैसा घूमे गोल-गोल : मेल्विन बर्जर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - बच्चों की पुस्तक | Paisa Ghoome Gol-Gol : by Melvin Berger Hindi PDF Book - Children's Book (Bachchon Ki Pustak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पैसा घूमे गोल-गोल / Paisa Ghoome Gol-Gol
Author
Category, , ,
Language
Pages 25
Quality Good
Size 1.9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : एक जमाना था जब पैसे नहीं थे। लोग अपनी जरुरत के हिसाब से सब चीजें उगाते और बनाते थे। फिर चीजें बदलने लगीं। फिर लोग सिर्फ एक ही तरह का काम करने लगे। किसान खेती करने लगे। शिकारियों ने शिकार किया। बुनकर ने कपडा बनाया। लकड़हारे ने लकड़ी काटी………

Pustak Ka Vivaran : Ek Jamana tha jab paise nahin the. Log Apani Jarurat ke hisab se sab cheejen ugate aur banate the. Phir cheejen badalane lageen. Phir log sirph ek hee tarah ka kam karane lage. Kisan khetee karane lage. Shikariyon ne shikar kiya. Bunkar ne kapada banaya. Lakadahare ne lakadee katee………….

Description about eBook : There was a time when there was no money. People used to grow and make everything according to their needs. Then things started changing. Then people started doing only one kind of work. Farmers started farming. The hunters hunted. The weaver made the cloth. Woodcutter cut wood………..

“मुझे टीवी बहुत शिक्षाप्रद लगता है। जब भी कोई टीवी चलाता है, तो मैं दूसरे कमरे में जाता हूं और किताब पढ़ता हूं।” ‐ ग्रौचो मार्क्स
“I find television very educating. Every time somebody turns on the set, I go into the other room and read a book.” ‐ Groucho Marx

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment