परिणीता- शरतचंद्र चटोप्ध्याय मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Parineeta by Sharatchandra Chatopdhyay Hindi Book Download

Book Nameपरिणीता / Parineeta
Author
Category,
Language
Pages 118
Quality Good
Size 17.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : ललिता ने हँसकर कहा-‘इस समय तो मुझे फुरसत नहीं है शेखर दादा, मैं ता यहाँ रुपये लेने आई हूँ ? अब उसने तकिये के नीचे से चाबियों का गुच्छा उठाकर एक दराज खोली । गिनकर कुछ रुपये निकाले, उन्हें आँचल में बाँधा और जैसे अपने ही आप कहा–रुपये तो जब दरकार………

Pustak Ka Vivaran : Lalita ne Hanskar kaha-is samay to mujhe phurasat nahin hai shekhar Dada, main ta yahan rupaye lene aayi hoon ? Ab usane takiye ke neeche se chabiyon ka guchchha uthakar ek daraj kholi. Ginkar kuchh rupaye nikale, unhen Aanchal mein bandha aur jaise apne hi aap kaha–rupaye to jab darkar………

Description about eBook : Lalita laughed and said – ‘At this time I am not free Shekhar Dada, have I come here to get money? Now he opened a drawer by picking up a bunch of keys from under the pillow. After counting some rupees, tied them in the lap and as you said on your own – when the money is needed………

“हम अपने कार्यों के परिणाम का निर्णय करने वाले कौन हैं? यह तो भगवान का कार्यक्षेत्र है। हम तो एकमात्र कर्म करने के लिए उत्तरदायी हैं।” ‐ गीता
“Who are we to decide: what will be the outcome of our actions? It is God’s domain. We are just simply responsible for the actions.” ‐ Geeta

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment