पारमार्थिक उन्नति धन के आश्रित नहीं – (वास्तविक सुख ) स्वामी रामसुख दस जी हिंदी पुस्तक | Parmarthik Unnati Dhan ke Aashrit nahi – (Vastvik Sukh ) Swami Ramsukhdas ji Hindi Book Download Here | Free Hindi Books

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पारमार्थिक उन्नति धन के आश्रित नहीं – (वास्तविक सुख ) / Parmarthik Unnati Dhan ke Aashrit nahi – (Vastvik Sukh )
Category,
Language
Pages 30
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

पारमार्थिक उन्नति धन के आश्रित नहीं – (वास्तविक सुख ) पुस्तक का कुछ अंश : अर्थात्‌ जो मनुष्य धर्म के लिये धन की इच्छा करता हो, उसके लिये धन की इच्छा का त्याग करना ही उत्तम है । कारण कि कीचड़ लगाकर धोने की अपेक्षा उसका स्पर्श न करना ही उत्तम है । राजा रन्तिदेव का पुण्य बहुत बड़ा……..

Parmarthik Unnati Dhan ke Aashrit nahi – (Vastvik Sukh ) PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Arthat‌ jo Manushy dharm ke liye dhan ki ichchha karata ho, usake liye dhan ki ichchha ka tyag karana hi uttam hai. Karan ki keechad lagakar dhone ki apeksha usaka sparsh na karana hi uttam hai. Raja Rantidev ka puny bahut bada……..
Short Passage of Parmarthik Unnati Dhan ke Aashrit nahi – (Vastvik Sukh )Hindi PDF Book : That is, the person who desires money for religion, it is better for him to leave the desire for money. Because it is better not to touch mud than to wash it with mud. King Rantidev’s merit is great…………
“वह लोग भाग्यशाली हैं जो कि सपने बुनते हैं और उनको वास्तविक बनाने के लिए कीमत चुकाने के लिए तैयार हैं।” ‐ लियोन जे.सूअसेन
“Happy are those who dream dreams and are ready to pay the price to make them come true.” ‐ Leon J. Suenes

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment