पातंजल योग दर्शन के विशेष परिप्रेक्ष्य में आधुनिक योगाचार्यों के मतों की समीक्षा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Patanjal Yog Darshan Ke Vishesh Pariprechhey Mein Aadhunik Yogacharyo Ke Mato ki Smiksha Hindi PDF Book

Book Nameपातंजल योग दर्शन के विशेष परिप्रेक्ष्य में आधुनिक योगाचार्यों के मतों की समीक्षा / Patanjal Yog Darshan Ke Vishesh Pariprechhey Mein Aadhunik Yogacharyo Ke Mato ki Smiksha
Category,
Language
Pages 288
Quality Good
Size 19 MB
Download Status Available

पातंजल योग दर्शन के विशेष परिप्रेक्ष्य में आधुनिक योगाचार्यों के मतों की समीक्षा का संछिप्त विवरण : अनेक सिद्धान्त बिद्वतजनों के बीच प्रचलित थे। येग सबधी पूर्ववर्ती ग्रन्थों का यद्यपि पजज्जलि ने न तो कही उल्लेख किया है और न ही किसी प्राचीन योगाचार्य का कहीं पर नाम लिया है। फिर भी अधिकाश प्रतिपादय विषयों को तर्को और प्रमाणों से सिद्ध करने का उनका प्रयास इस बात का प्रमाण है……

Patanjal Yog Darshan Ke Vishesh Pariprechhey Mein Aadhunik Yogacharyo Ke Mato ki Smiksha PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Anek siddhant vidvatajanon ke bich prachalit the. Yog sanbadhi poorvavarti grantho ka yadyapi pajajjali ne na to kahi ullekh kiya hai aur na hi kisi prachin yogachary ka kahin par nam liya hai. Phir bhi adhikash pratipady vishayon ko tarko aur pramanon se siddh karane ka unaka prayas is bat ka praman hai………….
Short Description of Patanjal Yog Darshan Ke Vishesh Pariprechhey Mein Aadhunik Yogacharyo Ke Mato ki Smiksha PDF Book : Many theories were prevalent among scholars. However, Pajjjali has neither mentioned nor given the name of some ancient Yogacharya somewhere. Yet their attempts to prove most of the subjects and proofs are proof of this…………
“सपने ही देखते रहने और जीवन को जीना भूल जाने में भलाई नहीं है।” – एल्बस डम्बलडोर
“It’s better to die on your feet than to live on your knees.” – Emiliano Zapata

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment