पातंजल योग दर्शन – योग : ब्रह्मलिमुनि महाराज द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Patanjal Yog Darshanam : by Brahmlimuni Maharaj Hindi PDF Book – Yoga

Book Nameपातंजल योग दर्शन / Patanjal Yog Darshanam
Author
Category,
Pages 921
Quality Good
Size 16.32 MB
Download Status Available

पातंजल योग दर्शन का संछिप्त विवरण : मन से आत्मा का साक्षात्कार नहीं होता है; किन्तु समाहित मन से आत्मा का साक्षात्कार होता है | अर्थात्‌ योगाम्यास के द्वारा जो मन से उससे आत्मसाक्षात्कार होता है | इस प्रकार योग दर्शन योगतस्व के उपदेश द्वारा बात सिद्ध हुई…….

Patanjal Yog Darshanam PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Man se atma ka sakshatkar nahin hota hai; kintu samahit man se atma ka sakshatkar hota hai. Arthat yogamyas ke dvara jo man se usase  atmasakshatkar hota hai. Is prakar yog darshan yogatasv ke upadesh dvara bat siddh hui..…………
Short Description of Patanjal Yog Darshanam PDF Book : Spirit does not have a soul interview; But the soul is interviewed with the contained mind. That is, through the Yogamas, which is the self-realization in the mind. Thus the talk of yoga philosophy Yogastavya proved the point………..
“औपचारिक शिक्षा आपको जीविकोपार्जन के लिए उपयुक्त बना देती है; स्व शिक्षा (अनुभव) आपका भाग्य बनाती है।” जिन रॉन
“Formal education will make you a living; self-education will make you a fortune.” Jim Rohn

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment