पीर नाबालिग़ : आचार्य चतुरसेन शास्त्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Pir Nabalig : by Acharya Chatursen Shastri Hindi PDF Book – Story (Kahani)

पीर नाबालिग़ : आचार्य चतुरसेन शास्त्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Pir Nabalig : by Acharya Chatursen Shastri Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पीर नाबालिग़ / Pir Nabalig
Author
Category,
Language
Pages 136
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

पीर नाबालिग़ पुस्तक का कुछ अंश : मालिश करने वालों से बदन में तेल मालिश कराना, दुधिया छानना और फिर किसी साफ-सुथरे घाट पर, और कभी-कभी बिच धार ही में गंगा की गोद में चपल बालक की भांति उछल कूद कर जल क्रीडा करना, फिर गंगा की लहरों पर हंस की भांति तैरती हुई किश्ती की छत पर बैठकर कचौरीगली को गर्मागर्म कचौरियां और रसमुल्ले उड़ाना…

 

Pir Nabalig PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Malish karne valon se badan mein tel malish karana, dudhiya chhanna aur phir kisi saph-suthare ghat par, aur kabhi-kabhi bich dhar hi mein ganga ki god mein chapal balak ki bhanti uchhal kud kar jal krida karna, phir ganga ki laharon par hans ki bhanti tairti hui kishti ki chhat par baithkar kachaurigali ko garmagarm kachauriyan aur rasagulle udana…………
Short Passage of Pir Nabalig Hindi PDF Book : Massage oil massage in the body, filtrate the milk and then on a clean ghat, and sometimes in the middle of the Ganga, in the lap of the Ganga jumping in the lap like a child, doing water sports, then swan on the waves of the Ganges Like to sit on a rooftop rim and throw hot tricks and rosets to Kachourigli…………….
“विषम परिस्थितियों के कठोर प्रहारों से ही चरित्र का निर्माण होता है। ” – आरनॉल्ड ग्लासौ
“It’s only by the hard blows of adverse fortune that character is tooled.” – Arnold Glasow

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment