गोली : आचार्य चतुरसेन शास्त्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Goli : by Acharya Chatursen Shastri Hindi PDF Book – Story (Kahani)

गोली : आचार्य चतुरसेन शास्त्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Goli : by Acharya Chatursen Shastri Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गोली / Goli
Author
Category, , ,
Language
Pages 296
Quality Good
Size 10 MB
Download Status Available

गोली पुस्तक का कुछ अंश : मैं जन्मजात अभागिनी हूँ | स्त्री जाति का कलंक हूँ | स्त्रियों में अधम हूँ | परन्तु मैं निर्दोष हूँ, निष्पात हूँ | मेरा दुर्भाग्य मेरा अपना नहीं है, मेरी जाति का है, जातिपरम्परा का है | हम पैदा ही इसलिए होती है की कलंकित जीवन व्यतीत करे | जैसे मैं हूँ ऐसी ही मेरी माँ थी, परदादी थी, उनकी भी दादियां-परदादियाँ थी | मेरी सब बहिनें ऐसी ही है………

Goli PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Main janmjat abhagini hun. Stri jaati ka kalank hun. Striyon mein adham hun. Parantu main nirdosh hun, nishpat hun. Mera durbhagy mera apna nahin hai, meri jati ka hai, jatiparampara ka hai. Ham paida hi islie hoti hai ki kalankit jeevan vyatit kare. Jaise main hun aisi hi meri maan thi, pardadi thi, unki bhi dadiyan-pardadiyan thi. Meri sab bahinen aisi hi hai…………
Short Passage of Goli Hindi PDF Book : I am a born unconscious. I am a stigma of the female caste. I am an ill-fated woman. But I am innocent, I am innocent. My misfortune is not my own, of my caste, of caste tradition. We are born because of living a stigma. Like I was my mother, grandfather was my grandfather-grandfather. All my sisters are like this………….
“जब आप जागृत अवस्था में होते हैं, तो ही सर्वश्रेष्ठ स्वप्नों का सृजन होता है।” ‐ चैरी ग्लाइडरब्लूम
“The best dreams happen when you’re awake.” ‐ Cherie Gilderbloom

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment