पॉजिटिव आई ऍम पॉजिटिव : कनिष्क शर्मा मुफ्त हिंदी पुस्तक | Positive I Am Positive : Kanishk Sharma Hindi Book Free Pdf

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पॉजिटिव आई ऍम पॉजिटिव / Positive I Am Positive
Author
Category, ,
Pages 42
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पॉजिटिव आई ऍम पॉजिटिव पुस्तक का कुछ अंश : मनुष्य मन और ख्याल का रूप है, और वह रूप ठहरने के लिए नहीं बना है | जबकि चलते रहने के लिए बना है | चलते रहने का तात्पर्य हमारे मनुष्य मन और सोच से है | क्युकी मन हमारा जन्म से ही “तत्व” और “एक दुसरे मन” के प्रभाव में अस्थिरता में जीता आया है, इसलिए उस अस्थिरता में जीना, उस अस्थिरता को अपनाकर, उसमे बढ़ना ही जीवन है,उसी में जीवन का एहसास करना ही जीवन है……….

Positive I Am Positive PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Manushy man aur khyal ka roop hai, aur vah roop thaharane ke liye nahin bana hai. Jabaki chalate rahane ke liye bana hai. Chalate rahane ka tatpary hamare manushy man aur soch se hai. Kyuki man hamara janm se hi “tatv” aur “ek dusare man” ke prabhav mein asthirata mein jeeta aaya hai, isliye us asthirata mein jeena, us asthirata ko apanakar, usame badhana hi jeevan hai, usi mein jeevan ka ehsas karana hi jeevan hai……….
Short Passage of Positive I Am Positive Hindi PDF Book : Man is the form of mind and thought, and that form is not made to remain. While built to last | The meaning of walking is with our human mind and thinking. Since our mind has been living in instability since our birth under the influence of “element” and “each other mind”, therefore to live in that instability, to adopt that instability, to grow in it is life, to realize life in it is life. ……….
“पीड़ा तो अवश्यम्भावी है, लेकिन निर्धनता वैकल्पिक होती है।” ‐ टिम हैंसेंल
“Pain is inevitable, but misery is optional.” ‐ Tim Hansel

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

1 thought on “पॉजिटिव आई ऍम पॉजिटिव : कनिष्क शर्मा मुफ्त हिंदी पुस्तक | Positive I Am Positive : Kanishk Sharma Hindi Book Free Pdf”

Leave a Comment