प्राचीन भारत में कृषि-व्यवस्था-प्रारम्भिक काल से ६०० ई. तक : श्रीमती पूर्णेश्वरी द्धिवेदी द्वारा हिन्दी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Prachin Bharat Mein Krshi-Vyavstha-prambhik kal Se 600 AD Tak : by Shrimati Purneshvari Dwivedi Hindi PDF Book – History (Itihas)

प्राचीन भारत में कृषि-व्यवस्था-प्रारम्भिक काल से ६०० ई. तक : श्रीमती पूर्णेश्वरी द्धिवेदी द्वारा हिन्दी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Prachin Bharat Mein Krshi-Vyavstha-prambhik kal Se 600 AD Tak : by Shrimati Purneshvari Dwivedi Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्राचीन भारत में कृषि-व्यवस्था-प्रारम्भिक काल से ६०० ई. तक / Prachin Bharat Mein Krshi-Vyavstha-prambhik kal Se 600 AD Tak
Author
Category, ,
Language
Pages 192
Quality Good
Size 12 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : तत्कालीन आर्यों के जीवन में स्थायित्व के पूत कम थे | मवेशी,दास,रथ,घोड़ों आदि के दान के उल्लेख तो मिलते है किन्तु भूमि के नहीं | न ही राजा को भूमि का रक्षक बताया गया है | अत भूमि का स्वामित्व किसी निजी व्यक्ति अथवा छोटे परिबार के हाथों में नहीं अपितु सम्पूर्ण………

Pustak Ka Vivaran : Tatkalin Aryon ke jeevan mein Sthayitv ke poot kam the . Maveshi,Das,Rath,Ghodon Aadi ke dan ke Ullekh to milate hai kintu bhoomi ke nahin. Na hi Raja ko bhumi ka Rakshak bataya gaya hai. At bhumi ka svamitv kisi Niji vyakti athava chhote parivar ke hathon mein Nahin Apitu sampoorn………….

Description about eBook : The lives of the then Aryans were less and less stable. The donations of cattle, slaves, chariots, horses etc. are mentioned, but not the land. Nor has the King been described as the protector of the land. Hence the ownership of the land is not in the hands of any private person or small family, but…………..

“दीर्घायु होना नहीं बल्कि जीवन की गुणवत्ता का महत्त्व होता है।” ‐ मार्टिन लूथर किंग, जूनियर
“The quality, not the longevity of one’s life is what is important.” ‐ Martin Luther King, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment