प्रार्थना और प्रहार : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Prarthana Aur Prahar : by Prafull Kolkhyan Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameप्रार्थना और प्रहार / Prarthana Aur Prahar
Author
Category, ,
Language
Pages 3
Quality Good
Size 382 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जिनकी जिंदगी रधुवीर के सहारे चलती है वे राम के दास नहीं होंगे तो और क्या होंगे ? हम ही ने तो बताया था खुद को कि हमारी हत्या होगी, दूसरा कौन बता सकता है यह बात ? ऐसा बताकर हमने ही तो खुद को मारा है बार-बार। युद्ध के प्रारंभ के पहले ही वे सारे लोग मारे जा चुके होते हैं जो नहीं होते हैं विशेष कृपापात्र। बतला दिया था कृष्ण ने………..

Pustak Ka Vivaran : Jinki Zindagi Radhuveer ke sahare chalti hai ve Ram ke das nahin honge to aur kya honge ? Ham hi ne to bataya tha khud ko ki hamari hatya hogi, doosara kaun bata sakata hai yah bat ? Aisa batakar hamane hi to khud ko mara hai bar-bar. Yuddh ke prarambh ke pahale hi ve sare log mare ja chuke hote hain jo nahin hote hain vishesh krpapatr. Batala diya tha krishna ne………..

Description about eBook : Those whose life goes on with the help of Radhuveer, if they are not servants of Ram, what else will they be? We had told ourselves that we would be killed, who else can tell this? We have killed ourselves by telling this time and again. Even before the start of the war, all those people who are not special favors have been killed. Krishna had told…………

“समस्त संसार के लिए हो सकता है कि आप केवल एक इंसान हों लेकिन संभव है कि किसी एक इंसान के लिए आप समस्त संसार हों।” जोसेफीन बिलिंग्स
“To the world you may be just one person but to one person you may be the world.” Josephine Billings

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment