प्रश्नोपनिषद : पंडित मोतीलाल शास्त्री द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Prashnopanishad : by Pandit Motilal Shastri Free Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्रश्नोपनिषद / Prashnopanishad
Author
Category
Language
Pages 268
Quality Good
Size 67 MB
Download Status Available

प्रश्नोपनिषद पुस्तक का कुछ अंशप्राचीन भारत की वैदिक कालीन सभ्यता की एवं सभ्यता में प्रचलित व्यवस्थाओं की यदि आज इस 20वीं शताब्दी की सभ्यता एवं व्यवस्था के साथ तुलना करने लगते हैं तो अहोरात्र का अन्तर पाते हैं| आज का भारतवर्ष विज्ञान शून्य है, असभ्य है- जंगली है- अकर्मण्य है| आज हम भारतियों में जो कुछ सभ्यता का अंश विध्यमान है- यह पश्चात्त्यों की दया दृष्टि का फल है………….

Prashnopanishad PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Pracheen bharat kee vaidik kaleen sabhyata kee evan sabhyata mein prachalit vyavasthaon kee yadi aaj is 20veen shatabdee kee sabhyata evan vyavastha ke saath tulana karane lagate hain to ahoratr ka antar pate hain| aaj ka bharatavarsh vigyan shoony hai, asabhy hai- jangalee hai- akarmany hai| aaj ham bharatiyon mein jo kuchh sabhyata ka ansh vidhyaman hai- yah pashchattyon kee daya drshti ka phal hai………….
Short Passage of Prashnopanishad Hindi PDF Book : If we start comparing the Vedic era civilization of ancient India and the systems prevailing in that civilization with the civilization and system of this 20th century today, then we find the difference of hours and nights. Today’s India is science zero, it is uncivilized – it is wild – it is indolent. Whatever fraction of civilization is present in us Indians today – it is the result of the kindness of the ancestors…..
“खतरे में हिम्मत रखना आधी लड़ाई जीतने जैसा है।” ‐ टाइटस मेक्सियस प्लौटस
“Courage in danger is half the battle.” ‐ Titus Maccius Plautus

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment