सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

पृथ्वी पर जीवन की कहानी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - बच्चों की पुस्तक | Prathvi Par Jeewan Ki Kahani

पृथ्वी पर जीवन की कहानी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - बच्चों की पुस्तक | Prathvi Par Jeewan Ki Kahani : Hindi PDF Book - Children's Book (Bachchon Ki Pustak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पृथ्वी पर जीवन की कहानी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - बच्चों की पुस्तक | Prathvi Par Jeewan Ki Kahani
Category, ,
Language
Pages 17
Quality Good
Size 1.4 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

पुस्तक का विवरण : कुछ मछलियों ने पाया कि वे लगभग हर समय जमीन पर रह सकती थीं. उनके मीन-पंखों में पैरों की उंगलियां थीं जो उनकी चलने में मदद करती थीं. मछलियों जैसी सपाट पूंछ के बजाए, उनकी लंबी, सीधी पूंछ थी. ये जीव अपने अंडे देने और गर्मी में ठंडक लिए ही सिर्फ पानी में वापस जाते थे………..

Pustak Ka Vivaran : Kuchh Machhaliyon ne paya ki ve lagbhag har samay jameen par rah sakti theen. Unke meen-pankhon mein pairon ki ungaliyan theen jo unki chalane mein madad karti theen. Machhaliyon jaisi sapat poonchh ke bajaye, unki lambi, seedhi poonchh thee. Ye Jeev apne ande dene aur garmi mein thandak liye hi sirph pani mein vapas jate the……….

Description about eBook : Some fish found that they could stay on land almost all the time. He had toes in his Pisces-feathers which helped him to walk. Instead of a flat tail like a fish, they had a long, straight tail. These creatures used to go back to the water only to lay their eggs and cool down in summer…..

“जीवन की चुनौतियों का अर्थ आपकी विकलांगता नहीं है; उनका उद्देश्य आपको इस बात की खोज में सहायता करना है कि आप कौन हैं।” – बर्नेस जानसन रीगन
“Life’s challenges are not supposed to paralyze you; they’re supposed to help you discover who you are.” -Bernice Johnson Reagon

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment