प्रो० रामप्रकाश गोयल अभिनन्दन – ग्रन्थ : डॉ. महेश ‘दिवाकर’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Proff. Ram Prakash Goyal Abhinandan – Granth : by Dr. Mahesh ‘Divakar’ Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

प्रो० रामप्रकाश गोयल अभिनन्दन - ग्रन्थ : डॉ. महेश 'दिवाकर' द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Proff. Ram Prakash Goyal Abhinandan - Granth : by Dr. Mahesh 'Divakar' Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्रो० रामप्रकाश गोयल अभिनन्दन – ग्रन्थ / Proff. Ram Prakash Goyal Abhinandan – Granth
Author
Category, , , , ,
Pages 537
Quality Good
Size 20 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उम्र के अंतिम पड़ाव की ओर बढ़ते हुए कदमों में कहीं भी थकान का आभास नहीं है। उम्र का लम्बा तजुर्बा अनेकानेक उतार चढ़ावों के रूप में गजलों में उजागर हुआ है। दार्शनिक क्षेत्र में कहावत प्रचलित है – “जहाँ विज्ञान की पहुँच ठहरती है, वहाँ से दर्शन का आरम्भ होता है।” इस रचना संग्रह के समुन्दर में डूबकर जिन्दगी के विभिन्‍न रंग पाए जिनसे रंग-बिरंगे फूलों का गुलदस्ता मिला……..

Pustak Ka Vivaran : Umr ke Antim Padav ki or Badhate huye Kadamon mein kahin bhi thakan ka Aabhas nahin hai. Umra ka Lamba Tajurba Anekanek utar Chadhavon ke Roop mein Gajalon mein Ujagar huya hai. Darshanik kshetra mein kahavat Prachalit hai – “Jahan vigyan kee Pahunch thaharati hai, Vahan se Darshan ka Aarambh hota hai.” Is Rachana Sangrah ke Samundar mein Doobakar Zindagi ke Vibhin‍na Rang paye jinase rang-birange phoolon ka Guladasta mila…….

Description about eBook : There is no sense of fatigue anywhere in the steps leading to the last stage of age. The age-old experience has been exposed in the ghazals as many ups and downs. In the philosophical field, the proverb is popular – “Where science stops, philosophy begins from there.” Drowning in the sea of ​​this composition collection found different colors of life, which received a bouquet of colorful flowers ……..

“आपको अच्छा करने का अधिकार बुरा करने के अधिकार के बिना नहीं मिल सकता। माता का दूध शूरवीरों का ही नहीं, वधिकों का भी पोषण करता है।” ‐ जॉर्ज बर्नार्ड शॉ
“You cannot have power for good without having power for evil too. Even mother’s milk nourishes murderers as well as heroes.” ‐ George Bernard Shaw

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment