राजनीति और दर्शन : विश्वनाथ प्रसाद वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Rajniti Aur Darshan : by Vishwanath Prasad Verma Hindi PDF Book

राजनीति और दर्शन : विश्वनाथ प्रसाद वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Rajniti Aur Darshan : by Vishwanath Prasad Verma Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name राजनीति और दर्शन / Rajniti Aur Darshan
Author
Category,
Language
Pages 594
Quality Good
Size 72 MB
Download Status Available

राजनीति और दर्शन का संछिप्त विवरण : वेदान्त दर्शन और बौद्धथर्म के अध्ययन के रूप क्रम मे मैंने यह अनुभव किया की हमारे देश के दर्शनिकों और यूरोप के दर्शनिकों मे एक बड़ा अंतर है। प्लेटो, अरस्तू तथा हैगल महादर्शनिक थे; किन्तु साथ ही साथ समाजीक और राजनीतिक विचारों के इतिहास मे उनकी देंन अत्यंत…..

Rajniti Aur Darshan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : vedaant darshan aur bauddhadharm ke adhyayan ke roop kram me mainne yah anubhav kiya kee hamaare desh ke darshanikon aur yoorop ke darshanikon me ek bada antar hai. pleto, arastoo tatha haigal mahaadarshanik the; kintu saath hee saath samaajeek aur raajaneetik vichaaron ke itihaas me unakee denn atyant………….
Short Description of Rajniti Aur Darshan PDF Book : In the form of the study of Vedanta philosophy and Buddhism, I experienced that there is a huge difference between the viewers of our country and the observers of Europe. Plato, Aristotle and Haigal were the masterminds; But as well as in the history of social and political ideas, they are extremely…………..
“अगर एक व्यक्ति को मालूम ही नहीं कि उसे किस बंदरगाह की ओर जाना है, तो हवा की हर दिशा उसे अपने विरुद्ध ही प्रतीत होगी।” सेनेका
“If a man does not know to which port he is steering, no wind is favourable to him.” Seneca

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment