राम बादशाह के छ: हुक्मनामे : स्वामी रामतीर्थ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Ram Badshah Ke Chhah Hukmname : by Swami Ramtirth Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

राम बादशाह के छ: हुक्मनामे : स्वामी रामतीर्थ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - धार्मिक | Ram Badshah Ke Chhah Hukmname : by Swami Ramtirth Hindi PDF Book - Religious (Dharmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name राम बादशाह के छ: हुक्मनामे / Ram Badshah Ke Chhah Hukmname
Author
Category,
Language
Pages 190
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

राम बादशाह के छ: हुक्मनामे का संछिप्त विवरण : स्वामी राम सांसारिक सुखों पर कभी मोहित नहीं हुए। विद्याभ्यास दिनों में भी वह बड़े संयम से रहते थे। उनका भोजन सादा और थोड़ा होता था। वह बहुत ही सादे कपडे पहनते थे, व्यवहार में घड़ी कोमलता तथा सरलता होती थी। यों कहना चाहिए कि वह जन्म से ही विरक्त थे। अवस्था के साथ साथ उनके मनकी यह वृत्ति और भी प्रबल होती गई। हा, पहले इसका विकास कृष्णभक्ति के रूप में हुआ…….

Ram Badshah Ke Chhah Hukmname PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Swami Ram Sansarik sukhon par kabhi mohit nahin huye. Vidyabhyas dinon mein bhee vah bade sanyam se rahate the. Unaka bhojan sada aur thoda hota tha. Vah bahut hee sade kapade pahanate the, vyavahar mein ghadee komalata tatha saralata hoti thee. Yon kahana chahiye ki vah janm se hee virakt the. Avastha ke sath sath unake manaki yah vrtti aur bhee prabal hotee gayi. Ha, pahale isaka vikas krshnabhakti ke roop mein huya………..
Short Description of Ram Badshah Ke Chhah Hukmname PDF Book : Swami Ram was never fascinated by worldly pleasures. He lived with great restraint even in the days of learning. Their food was simple and little. He used to wear very simple clothes, in practice the watch was soft and simple. It should be said that he was averse from birth. This attitude of his mind became stronger with the condition. Yes, it first developed in the form of Krishnabhakti………..
“जिनसे प्रेम करते हैं, उन्हें जाने दें, वे यदि लौट आते हैं तो वे सदा के लिए आपके हैं। और अगर नहीं लौटते हैं तो वे कभी आपके थे ही नहीं।” ‐ खलील ज़िब्रान (१८८३-१९३१), सीरियाई कवि
“If you love somebody, let them go, for if they return, they were always yours. And if they don’t, they never were.” ‐ Kahlil Gibran (1883-1931), Syrian Poet

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment