रामचरितमानस से प्रगतिशील प्रेरणा : श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा हिंदीं पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Ramcharitamanas Se Pragatisheel Prerana : by Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

रामचरितमानस से प्रगतिशील प्रेरणा : श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा हिंदीं पीडीऍफ़ पुस्तक - धार्मिक | Ramcharitamanas Se Pragatisheel Prerana : by Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book - Religious (Dharmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name रामचरितमानस से प्रगतिशील प्रेरणा / Ramcharitamanas Se Pragatisheel Prerana
Author
Category, , ,
Language
Pages 108
Quality Good
Size 6.6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सच्चे भक्त अपनी तथा प्रभु की इस मयौदा और गौरव को समझते हैं। अपने अंतर की मलिनता से उन्हें लज्जा आती है। तुलसीदास जी ‘विनय पत्रिका’ में यही भाव व्यक्त करते है। “हे प्रभु ! मुझे आपका दास (भक्त) कहलाने में लाज क्‍यों नहीं आती ? मैं आपको अपने हृदय सरोवर……

Pustak Ka Vivaran : Sachche bhakt apani tatha prabhu kee is maryada aur gaurav ko samajhate hain. Apane antar kee malinata se unhen lajja aati hai. Tulasi Das jee vinay patrika mein yahi bhav vyakt karate hai. He prabhu ! Mujhe aapaka das (bhakt) kahalane mein laj kyon nahin aati ? Main aapako apane hraday sarovar…………

Description about eBook : True devotees understand this and their dignity and glory of the Lord. They are disgraced by the filth of their differences. Tulsidas ji expresses this expression in ‘Vinay Patrika’. ”Oh God ! Why do not you feel ashamed to call me your slave? I will give you my heart pond………..

“घृणा के घाव बदसूरत होते हैं; और प्रेम के खूबसूरत।” मिगनों मैकलोलिन
“Hate leaves ugly scars; love leaves beautiful ones.” Mignon McLaughlin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment