सब जग ईश्वररूप है : स्वामी रामसुखदास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Sab Jag Ishvar Roop Hai : by Swami Ramsukh Das Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameसब जग ईश्वररूप है / Sab Jag Ishvar Roop Hai
Author
Category, ,
Language
Pages 98
Quality Good
Size 2.5MB
Download Status Available

सब जग ईश्वररूप है पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : जैसे, आम का बगीचा होता है। उसमें बिना ऋतु के आम का एक फल भी नहीं होता, तो
भी वह बगीचा आम का ही कहलाता है। अमरूद के बगीचे में एक भी अमरूद देखने में नहीं आता, तो भी वह
‘बगीचा अमरूद का ही कहलाता है। गेहूँ की खेती में एक दाना भी गेहूँ का नहीं मिलता, तो भी वह खेती गेहूँ
की ही कहलाती है। कारण यह है कि पहले आम…

Sab Jag Ishvar Roop Hai PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jaise, Aam ka Bagicha hota hai. Usamen bina rtu ke Aam ka ek phal bhi nahin hota, to bhi vah bageecha aam ka hi kahlata hai. Amarood ke bagiche mein ek bhi Amrood dekhane mein nahin aata, to bhi vah bagicha Amrood ka hi kahlata hai. Gehoon ki kheti mein ek dana bhi gehoon ka nahin milta, to bhi vah kheti Gehoon ki hi kahlati hai. karan yah hai ki pahale Aam…….

Short Description of Sab Jag Ishvar Roop Hai Hindi PDF Book : Like, there is a mango garden. There is not even a mango fruit in it without a season, yet that garden is called a mango tree. Not a single guava is seen in the guava garden, yet it is called the ‘garden of guava’. Even a single grain of wheat is not found in the cultivation of wheat, yet that cultivation is called wheat. The reason is that the first common….

 

“वह व्यक्ति बुद्धिमान है जो उन वस्तुओं के लिए दुःख नहीं मनाता जो उसके पास नहीं हैं, लेकिन उनके लिए आनन्द मनाता है जो उसके पास हैं।” ‐ एपिक्टेट्स
“He is a wise man who does not grieve for the things which he has not, but rejoices for those which he has.” ‐ Epictetus

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment