सभ्य समाज और उसके कारनामे : आचार्य स्वामी विश्वनाथ ‘विश्वेश’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Sabhy Samaj Aur Unke Karname : by Acharya Swami Vishwanath ‘Vishvesh’ Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameसभ्य समाज और उसके कारनामे / Sabhy Samaj Aur Unke Karname
Author
Category, , ,
Language
Pages 202
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : धर्म के नाम पर मनमाना अनर्थ करना मतवालों का काम नहीं , विषयाशक्त हो व्याभिचार के पीछे नंगे नाचना, कामेच्छा की पूर्ति के लिए सत्य और धर्म की हिंसा करना, स्वार्थ साधन के लिए- नहीं-नहीं केवल अपने लिए ही दीनों का रक्त बहाना मतवालों का काम नहीं-यह तो प्रत्यक्ष जघन्य नर-पशुओं का कुकृत्य है…..

Pustak Ka Vivaran : Dharm ke nam par manamana anarth karana matavaalon ka kam nahin , vishayashakt ho vyabhichar ke peechhe nange nachana, kamechchha ki poorti ke liye saty aur dharm ki Hinsa karana, svarth sadhan ke liye- nahin-nahin keval apane lie hi deenon ka rakt bahana matavalon ka kam nahin-yah to pratyaksh jaghany nar-pashuon ka kukrty hai………….

Description about eBook : Do not make a bad name in the name of religion, it is not the work of the peasants, it is the subject matter, the naked dance behind the incarnation, the violence of truth and religion for the fulfillment of libido, not for selfish means – not only for the sake of money, Not working – this is the deed of the direct heinous man-animal…………..

“अगर सफलता आपके आदर्शों से मेल नहीं खाती – यदि यह दुनिया को अच्छी लगती हो लेकिन आपको अपने मन में नहीं अच्छी लगती – तो यह सफलता नहीं है।” ‐ एना क्विन्ड्लेन
“If success is not on your terms – if it looks good to the world but does not feel good in your own heart – it is no success at all.” ‐ Anna Quindlen

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment