सदगति : मुंशी प्रेमचंद द्वारा मुफ्त हिंदी कहानी पीडीऍफ़ पुस्तक | Sadgati : by Munshi Premchand Free Hindi Story PDF Book

Book Nameसदगति / Sadgati
Author
Category,
Language
Pages 28
Quality Good
Size 1.03 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रेमचंद आजादी के आन्दोलन के दौर के लेखक हैं| ब्रिटिश साम्राज्यवाद से लोहा लेने के लिए उस दौर में यह महसूस किया गया कि अपने समाज में फैली बुराइयों को दूर किया जाए, क्योंकि अपने समाज के अन्यायमूलक ढाँचों की निर्मम समीक्षा करते हुए ही आजादी और न्याय की लड़ाई लड़ी जा सकती है………….

Pustak ka Vivaran : Premachand aajaadee ke aandolan ke daur ke lekhak hain. British saamraajyavaad se loha lene ke lie us daur mein yah mahasoos kiya gaya ki apane samaaj mein phailee buraiyon ko door kiya jae, kyonki apane samaaj ke anyaayamoolak dhaanchon kee nirmam sameeksha karate hue hee aajaadee aur nyaay kee ladaee ladee ja sakatee hai………….

Book Description : Premchand is the author of the freedom movement era. In order to take on the British imperialism, it was felt that the evils spread in our society should be removed, because the fight for freedom and justice can be fought only by ruthlessly reviewing the unjust structures of our society……………

“निराशावादी होने के लिए कोई भी पर्याप्त ज्ञान नहीं रखता।” ‐ नॉर्मन कज़िंस, अमरीकी निबन्धकार व लेखक (१९१२-१९९०)
“No one really knows enough to be a pessimist.” ‐ Norman Cousins (1912-1990), American essayist and writer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment